• Sat. Dec 3rd, 2022

शहीद रामफल मंडल, जुब्बा सहनी एवं जिले के शहीदों का शहादत समारोह संपन्न

ByFocus News Ab Tak

Aug 31, 2022

‌ जूही राज के साथ ब्यूरो रिपोर्ट

सीतामढ़ी:- उपेक्षित एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग संघ के तत्वाधान में अंबेडकर स्थल ,डुमरा के प्रांगण में आजादी की लड़ाई में फांसी को गले लगाने वाले अमर शहीद रामफल मंडल ,जुब्बा सहनी एवं सीतामढ़ी शिवहर के अमर शहीद विष्णुदेव पटवा, बिंदेश्वर पाठक ,पथलू राउत, जानकी सिंह, प्रदीप सिंह,छठू ठाकुर,रामबुझावन ठाकुर, मोहम्मद इदरीश, मोहम्मद मुस्लिम, मोहम्मद सिद्दीकी ,विशुन गोसाई, महावीर गोप, गंभीरा राय, भदई कबाङी, रामचरण मंडल, जयसुंदर खतवे,राम लखन गुप्ता,ं मथुरा मंडल ,मौजे झा, सुंदर महरा, ननू मियां, सूरज पासवान ,भगवत राउत, बलदेव सूढी, परसत तेली, छठू कानू, बंसी ततमा,सुखन लोहार, बिकन कुर्मी, बंगाली नूनिया, बुधन कहार, भुपन सिंह ,सुखदेव सिंह,नौजाद सिंह, गूगल धोबी ,बुझावन चमार, सहित सभी गुमनाम शहीदों का सामूहिक शहादत समारोह मनाया गया।

समारोह की अध्यक्षता संघ के जिला संयोजक राजेंद्र महतो तथा मंच संचालन राकेश चंद्रवंशी ने किया। ‌ ‌ समारोह को शहीदों के चित्रों पर माल्यार्पण कर उद्घाटन करते हुए ई शैलेंद्र मंडल ,राष्ट्रीय अध्यक्ष, शहीद रामफल मंडल विचार मंच ने कहा कि जो देश एवं समाज अपने महापुरुषों के इतिहास एवं बलिदान को भूल जाता है, इतिहास उसको भूला देता है। महापुरुषों के द्वारा किये गये अच्छे कार्यों से नयी पीढ़ी को जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है।

अति पिछड़ा वर्ग संघ की ओर से सीतामढ़ी एवं शिवहर के लगभग 40 अमर शहीदों के जीवनगाथा पर शोधकार्य कर आम लोगों को गुमनाम शहीदों के बारे में जानकारी देने का काम करने के लिए शोधकर्ता शिक्षाविद विनोद बिहारी मंडल को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि शहीद किसी जाति का नहीं होता है वह देश का होता है ।देश के लिए जिन उद्देश्यों के लिए शहीदों ने अपनी कुर्बानी दी वह अभी अधूरी है। उन्होंने उपेक्षित अति पिछड़ा वर्ग सहित सभी समाज के लोगों से महापुरुषों की कीर्ति को आमलोगों तक पहूंचाने की अपील की।


मुख्य अतिथि प्रो किशोरी दास ,प्रदेश अध्यक्ष, ने कहा कि देश की आजादी की लङाई में वंचित एवं कमजोर वर्गों के जिन लोगों ने शहादत दी,उसको इतिहास के पन्नों से गायब कर दिया। उन्होंने कहा कि, तथाकथित सामाजिक न्याय के क्षत्रप नेताओं द्वारा एक राजनैतिक साज़िश के तहत् 2015 ई के बाद कर्पूरी के अति पिछड़ा वर्ग की कमजोर जातियों के अधिकारों को मजबूत के हाथों लुटवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि, जननायक के अतिपिछड़ों के अन्दर इस लूटते अधिकारों के खिलाफ ज्वालामुखी अन्दर से धधक रहा है, जो कभी भी महाविस्फोट कर , इनके साथ अन्याय करने वाले के मंसुबे को जलाकर राख कर देगा। उन्होंने सभी वंचितों एवं उपेक्षित अतिपिछड़ा वर्ग के लोगों से अपने लूटते जा रहे अधिकारों की रक्षा के लिए एकजुट होकर समय आने पर करारा जबाब देने के लिए तैयार रहने का आव्हान किया। विशिष्ट अतिथि डॉ नूर हसन आजाद, प्रदेश संयोजक ,अति पिछड़ा मुस्लिम समाज ने कहा कि देश की आजादी के लिए हिंदू एवं मुसलमान के लोगों ने सामूहिक रुप से शहादत दी थी।। सीतामढ़ी में भदई कबाङी, गूगल धोबी, मो इदरीश, मो मुस्लिम,मो सिद्दीक़ी, नन्नू मियां सहित दर्जनों लोगों ने शहादत दी । लेकिन शासक वर्गों के द्वारा मुस्लिमों का भयादोहन कर सिर्फ़ वोट बैंक बना दिया । जिसमें मुस्लिम अतिपिछड़ो की आबादी सर्वाधिक है। सच्चर कमीशन के रिपोर्ट के अनुशंसा को लागू करना ही शहीदों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने सभी हिंदू मुस्लिम उपेक्षित अति पिछड़ा वर्ग से एकजुट होकर अपने हक हुकुक के लिए एकजुट होने की अपील की।अदिति कुमारी ,अध्यक्ष जिला परिषद ने कहा कि, देश को आजादी दिलाने में सीतामढ़ी एवं शिवहर जिले के सभी धर्मों एवं जाति के करीब 40 लोगों ने शहादत दी। वकील द्वारा बार बार झूठ बोलने के दबाव के बावजूद अदालत में जज के पुछने पर रामफल मंडल ने झूठ नहीं बोला।और हंसते हंसते 23 अगस्त 1943 ई को भागलपुर सेन्ट्रल जेल में फांसी को गले लगाना कबुल किया। उन्होंने सीतामढ़ी में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज का नाम शहीद रामफल मंडल के नाम पर रखने की मांग सरकार से की।तथा सभी उपेक्षित अति पिछड़ा से एकजुट होकर जननायक के दिये हूए अधिकारों को बचाने का आह्वान किया,।
मुख्य वक्ता विनोद बिहारी मंडल, शहीदों के जीवनी के लेखक सह शोधार्थी ने शहीद रामफल मंडल जुब्बा सहनी सहित सीतामढ़ी शिवहर के सभी 40 स्वतंत्रता के शहीदों की शहादत उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डाला ।

अदिति कुमारी ,अध्यक्ष जिला परिषद ने कहा कि, देश को आजादी दिलाने में सीतामढ़ी एवं शिवहर जिले के सभी धर्मों एवं जाति के करीब 40 लोगों ने शहादत दी। वकील द्वारा बार बार झूठ बोलने के दबाव के बावजूद अदालत में जज के पुछने पर रामफल मंडल ने झूठ नहीं बोला।और हंसते हंसते 23 अगस्त 1943 ई को भागलपुर सेन्ट्रल जेल में फांसी को गले लगाना कबुल किया। उन्होंने सीतामढ़ी में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज का नाम शहीद रामफल मंडल के नाम पर रखने की मांग सरकार से की।तथा सभी उपेक्षित अति पिछड़ा से एकजुट होकर जननायक के दिये हूए अधिकारों को बचाने का आह्वान किया,।
मुख्य वक्ता विनोद बिहारी मंडल, शहीदों के जीवनी के लेखक सह शोधार्थी ने शहीद रामफल मंडल जुब्बा सहनी सहित सीतामढ़ी शिवहर के सभी 40 स्वतंत्रता के शहीदों की शहादत उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डाला ।

उन्होंने कहा कि,भारत एक फुलवारी है। जो विभिन्न धर्मों,पंथों, जातियों एवं मजहबों के फूलों से गुलजार है।इस फुलवारी के माली पर फूलों की खुबसूरती निर्भर करता है।जिस तरह देश की आजादी में सभी धर्मों एवं वर्गों के लोगों ने अपनी शहादत देकर इस फुलवारी को सींचा है।उस फुलवारी के कोई फूल नहीं मुरझाये।इसकी जबावदेही माली पर है। उन्होंने इतिहास के पन्नों से गायब शहीदों के कृतित्व की रक्षा के लिए शोध संस्थान बनाने, शहीद रामफल मंडल सहित अन्य शहीदों की जीवनी पाठ्य पुस्तकें में शामिल करने,डाक टिकट जारी करने, जिला मुख्यालय तथा विधान सभा परिसर में फांसी को गले लगाने वाले शहीद रामफल मंडल एवं जुब्बा सहनी की आदमकद प्रतिमा स्थापित करने, शहीदों के परिजनों को विशेष आर्थिक सहायता देने, शहीद रामफल मंडल के शहादत दिवस 23 अगस्त को राजकीय समारोह मनाने,अमृत महोत्सव के अवसर पर जिले के सभी शहीदों के परिजनों को सम्मान देने की मांग सरकार से की । ‌ रतन कुमार प्रमुख बथनाहा,ने कहा कि,देश का सबसे बड़ा घोटाला इतिहास का घोटाला हुआ है। उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर कर्पूरी फार्मूला लागू कर अतिपिछड़ा वर्ग की अलग पहचान देने की मांग की। संघ के सह संयोजक फेकन मंडल ने कहा कि,यह आजादी झुठी है,देश की जनता भूखी है। आर्थिक गैरबराबरी खत्म किये बिना शहीदों का सपना अधुरा है। ‌समारोह को अर्चना राज जिला पार्षद, भरत महतो जिला पार्षद,, शिवचंद्र पंडित ,रफीक सिद्दीकी ,रामजी मंडल, सीताराम मालाकार, बबलू मंडल, राम आशीष महतो, रामबाबू शर्मा, रामधारी दिनकर, कुमार सानू, सादिक हुसैन, जफर आलम, अनिल कुमार पूर्व फौजी, अमित कुमार गोल्डी, नरेश मुखिया, सीताशरण चौधरी,फेकन शर्मा,प्रेम कुमार सहनी, धनरंजय सहनी, बिंदेश्वर पासवान, रामदेव पंडित, कमल किशोर, राम नीतीश कुमार, संजय चंद्रवंशी, केसरदेव लाल साह,दशरथ ठाकुर, रामकृपाल मंडल,दिनेश कापर, सीताराम ठाकुर, जगदीश ठाकुर,सुरेश प्रसाद, राहुल मंडल, शहीद रामफल मंडल फाऊंडेशन, जालंधर यदुवंशी, राम लाल महतो, सादिक शाह, पुनीत बैठा,मोहन बैठा, ,छेदी महतो, प्रमोद बिहारी मंडल,युगल किशोर मंडल,डा सच्चिदानंद,सहित दर्जनों लोगों ने संबोधित किया। समारोह में सैकड़ों लोग उपस्थित थे!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed