• Sat. Dec 3rd, 2022

रीगा चीनी मिल के खरीददारों का सिक्योरिटी मनी वापस कर दिए जाने के बाद तत्काल समस्या का समाधान हुआ मुस्किल

ByFocus News Ab Tak

Oct 14, 2022

ब्यूरो रिपोर्ट

सीतामढ़ी – ईंखोत्पादक संघ के अध्यक्ष नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा है कि है नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में पिछले एक साल से मिल को दिवालिया घोषित करने और खरीद करने वाले सक्षम एजेंसी के हाथों सौंपने की प्रक्रिया चल रही थी. कोलकाता स्थित नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में तीन खरीदारों ने अपना निविदा का कागजात दाखिल किया था. इधर बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक के साथ-साथ ईंखोत्पादक काश्तकारों के बकाया राशि के एवज में बिहार सरकार ने अपना दावा दाखिल किया था. प्राप्त जानकारी के अनुसार इन तीनों खरीदारों ने इतनी कम राशि की बोली लगाई कि बैंक के कर्ज का सधान भी मुश्किल हो पा रहा था. बैंक के इनकार किए जाने के बाद तीनों खरीददारों की सिक्योरिटी मनी वापस कर दी गयी है.


ईंखोत्पादक संघ के अध्यक्ष नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार को एक ईमेल संदेश भेजकर कहा है कि रीगा चीनी मिल से जुड़े 40 हजार किसानों, एक हजार मजदूर, हजारों कामगार, दुकानदार,और इससे जुड़े पांच लाख लोगों के हित में हस्तक्षेप किया जाए और चीनी मिल को चालू कराने के लिए पहल किया जाए. श्री सिंह ने इस मसले पर विचार करने हेतु कल रीगा में संघ की कोर टीम की आपात् बैठक बुलाई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed