• Sat. Dec 3rd, 2022

सीतामढ़ी जिला स्तरीय रबी कर्मशाला- सह- प्रशिक्षण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

ByFocus News Ab Tak

Oct 23, 2022

मो कमर अख्तर की रिपोर्ट

सीतामढ़ी- कृषि विभाग आत्मा के सौजन्य से संयुक्त कृषि भवन मुरादपुर परिसर में जिला स्तरीय रबी कर्मशाला सह प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसका उद्धघाटन जिला पदाधिकारी एवं संयुक्त निदेशक (शस्य ) उपादान बिहार पटना के द्वारा किया गया। इस अवसर पर जिला पदाधिकारी मनेश कुमार मीणा के करकमलों से रबी फसल उत्पादन उन्नत तकनीकि पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। जिला पदाधिकारी ने उपस्थित प्रसार पदाधिकारी, कर्मी एवं प्रगतिशील कृषकों को रबी में गेहूं के साथ साथ दलहन, तिलहन एवं बागवानी फसलों को अपनाने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि किसानों का रूझान केला की खेती के तरफ भी बढ़ रहा है । मेजरगंज में कुछ किसान बड़े पैमाने पर केला की खेती कर रहे हैं। हाई वैल्यू क्रॉप में शिमला मिर्च की खेती कर कुछ किसान काफी अधिक मुनाफा कमा रहे हैं। जरूरत है वैसे किसानों से प्रेरित होकर अगल-बगल के किसानों को भी क्लस्टर अप्रोच में उसकी खेती को बढ़ावा देने की।

कृषि के अलावा पशुपालन एवं मत्स्य पालन व्यवसाय यहां के किसानों के लिए बेहतर साबित हो सकता है क्योंकि सीतामढ़ी में लो लैंड एरिया होने के कारण यहां के किसान मछली पालन में भी कम लागत में में अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। जिला पदाधिकारी एवं उप विकास आयुक्त द्वारा जल जीवन हरियाली को बढ़ावा देने हेतु और पर्यावरण को संतुलन एवं संरक्षित करने हेतु कृषि प्रक्षेत्र परिसर में पौधारोपण किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित सभी प्रसार पदाधिकारी, कर्मचारियों को निर्देश दिया गया के कृषि विभाग से जुड़ी हुई सभी योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ किसानों को संबद्ध विभागों के द्वारा संचालित योजना की जानकारी भी किसानों तक पहुंचाएं। जिससे अधिक से अधिक किसानों को योजना का लाभ मिल सके।कार्यक्रम के दौरान कुछ आवेदित किसानों को यांत्रिकरण योजना को बढ़ावा देने हेतु जिला पदाधिकारी के द्वारा परमिट भी दिया गया, जिससे कि वे यंत्रों को खरीद कर कृषि विभाग द्वारा यंत्रीकरण योजना की सब्सिडी का लाभ ले सके। वहीं जिला पदाधिकारी ने एलईडी युक्त रवि महाभियान प्रचार रथ को हरी झंडी देकर रवाना किया। प्रचार रथ विभिन्न प्रखंडों में किसानों के बीच जागरूकता के लिए प्रचार प्रसार करेगा।

कार्यक्रम में संयुक्त निदेशक (शस्य ) उपादान ने कुछ किसानों को स्वास्थ्य कार्ड वितरित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से किसानों के उत्पादन और उत्पादकता के साथ-साथ उसकी गुणवत्ता बढ़ाने पर भी विशेष बल दिया जा रहा है। रबी के मौसम में किसानों के लिए बीज उपलब्धता लक्ष्य के अनुसार सुनिश्चित कराना भी विभाग का उद्देश्य है, इसके लिए कृषि विभाग लगातार प्रयासरत हैं। जिला कृषि पदाधिकारी बृजेश कुमार ने कार्यक्रम के विषयों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इस तरह का कार्यक्रम सभी प्रखंडों में आयोजित किया जाएगा। जिसमें कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिकों एवं कृषि विशेषज्ञों के द्वारा तकनीकि सुझाव तथा कृषि पदाधिकारियों के द्वारा कृषि विभाग द्वारा संचालित सभी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। पंचायत स्तर पर किसान चौपाल के माध्यम से 15 नवंबर से सभी पंचायतों में किसानों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। जिससे कि अधिक से अधिक किसान इसका लाभ उठा सकें । तकनीकी सत्र में कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक डॉ रामेश्वर प्रसाद द्वारा बदलते मौसम में जलवायु अनुकूल कृषि अपनाने की सलाह दिया गया। साथ ही किसानों को जीरो टिलेज से गेहूं की बुवाई एवं जैविक खेती अपनाने के बारे में भी बताया गया।

कार्यक्रम में जिला पशुपालन पदाधिकारी, सहायक निदेशक उद्यान, सहायक निदेशक कृषि अभियंत्रण, उप परियोजना निदेशक आत्मा, अनुमंडल कृषि पदाधिकारी सदर, पुपरी एवं बेलसंड , सहायक निदेशक रसायन मिट्टी जांच प्रयोगशाला, सहायक निदेशक शस्य क्षेत्र सीतामढ़ी,जिला मत्स्य पदाधिकारी ,डीपीएम जीविका कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक सच्चिदानंद प्रसाद, मनोहर पंजीकार , रणधीर कुमार, सभी प्रखंड कृषि पदाधिकारी,प्रखंड तकनीकी प्रबंधक आर डी चौरसिया , राजीवधर द्विवेदी, सभी बीएचओ, सभी कृषि समन्वयक सभी बीटीएम, एटीएम, सभी किसान सलाहकार सहित विभिन्न प्रखंडों से आए प्रगतिशील किसानों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed