• Fri. Mar 31st, 2023

प्रसिद्ध कवित्री डॉ.मीनाक्षी मीनल की कलम से:-पलक

ByFocus News Ab Tak

May 1, 2022

पलक पर । सिर्फ हया नही बिठाओ सपने । ।

पलक पर पतंग नही उड़ो खुद भी ।

जुबां पर गीत नहीं उकेरो तर्क ।

हाथ पर रंग नहीं बिखेरो उमंग कदमों को महावर नहीं ।

बनाओ मुसाफिर भी ताकि मंजिल तुम्हें भी मुकम्मल इंसान समझे ।

Related Post

दशकों से ‘भगवान’ के लिए कपड़े बना रहा ‘अल्लाह’ का बंदा
अब्दुल कादिर और उनके बेटे मो. सुहैल के हाथ से सिले कपड़ों से सुसज्जित होते है भगवान श्रीराम, जानकी और हनुमान के परिधान
पिछले तीन पीढ़ियों से लगातार सिलाई कर रहा अब्दुल कादिर और उनका परिवार
जानकी मंदिर, हनुमान मन्दिर, श्याम मंदिर समेत दर्जनों मंदिरों के कपड़ों की करता है सिलाई
सीतामढ़ी की बेटी को राज्यपाल ने स्वर्ण पदक से किया सम्मानित
सीतामढी भव्य सामूहिक रुद्राभिषेक का हुआ आयोजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed