• Thu. Dec 8th, 2022

हँसी तुम्हारी
बिजली की चमक सी
कौंध जाती है

कवित्री जयंती कुमारी की कलम से

हँसी तुम्हारी
बिजली की चमक सी
कौंध जाती है,
गाहे-बगाहे,जाने-अनजाने
मन मस्तिष्क में…..
और फिर …..
उस हँसी की आभा में
तड़प उठता है मन
मचल उठता है जी,
चुराने को, तुम्हारी हँसी,
सजाने को ,अपने होठों पे
पर हाय.. …
मिलता नहीं कुछ और
सिवा इक टीस,
इक चुभन के…
जो आँखों को दे जाती है नमी
और
होठों को सजा जाती है
दर्द की लाली से

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed