• Thu. Dec 8th, 2022

सीतामढ़ी-बथनाहा प्रखंड के सहियारा के अतरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के मुख्य रास्ते को दबंगो ने किया बंद ।

सीतामढ़ी :प्रशासनिक उदाशीनता का के कारण बथनाहा प्रखंड के सहियारा के अतरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के मुख्य रास्ते को दबंगो ने की नजर इस कदर पड़ी की दबंगो नें बॉस बल्ले के सहारे रास्ते को ही बंद कर दिया । सूत्रों की मानें तो स्वास्थ्य व्यवस्था भी भगवान भरोसे है तब तो दबंगो की नजर इस स्वास्थ्य केन्द्र पर लगी ।

बताते चलें की जिससे पिछले नौ महीनों से चिकित्सको के आवागमन बन्द पड़ा है।स्वास्थ कर्मियों के इस अस्पताल में नही आने के कारण सहियारा सहित छौराहिया,खरबनी,कोदबरा ,हनुमाननगर,लक्ष्मीपुर,बदुरी, मनारिया, दिहठी, सितलपटी सहित दर्जनों गांवों के लोगों को स्वास्थ सेवा का लाभ से बंचित होना पड़ रहा है।पोलियों अभियान या टीकाकरण के दिनों में किसी तरह स्वास्थ कर्मी इस अस्पताल में आकर कागजी खानापूर्ति चले जाते हैं।इस अस्पताल के बंद रहने के कारण साधारण बीमारी की रोगी तो किसी तरह 10 किलोमीटर की दूरी तय कर रेफरल अस्पतालमेजरगंज, जाकर अपना स्वास्थ जांच करवा लेते हैं पर सबसे बड़ी कठिनाई गर्भवती महिलाओं एवं मर्जेन्सी रोगियों के साथ होती खासकर जब रात के समय इनकी पीड़ा तेज होती है तो केवल भगवान ही इनके सहारा होते हैं।उस वक्त अस्पताल की व्यवस्था पर लोगों में आक्रोश होती है।

विज्ञापन

बताते चलें कि केंद्र सरकार के निर्देश परइस अस्पताल में बेहतर व्यवस्था उपलब्ध कराने की नीयत से वर्ष 2018 में हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर तब्दील कर जीर्णोद्धार किया गया था।इस कार्य क्रम के तहत पूर्व डीएम रंजीत कुमार ने खुल्ले मंच से इस अस्पताल में छह चिकित्सक, एएनएम एवं सभी तरह के स्वास्थ सुबिधा उपलब्ध कराने की घोषणा की थी।तत्कालीन सांसद रामकुमार शर्मा ने अपने कोष से चहारदीवारी एवं ,पूर्व विधायक स्व0दिनकर राम ने अपने कोष से एम्बुलेंस उपलब्ध कराने की विश्वास दिलाया था।पर चार साल बाद भी इस अस्पताल की स्थिति यथावत बनी हुई है अबतो रास्ता ही अवरुद्ध कर दिया गया है।

रास्ता बंद करने के संबंध में पूछने पर मुश्मात महिला सतरूपा देवी ने बताई की यह रास्ता की जमीन की जमीन हमारी निजी है।जीर्णोद्धार के समय डीएम द्वारा इस रास्ते के जमीन के एवज अन्यत्र जमीन उपलब्ध कराने का निर्देश तत्कालीन सीओ वकील सिंह को दिया गया था काफी प्रयास के बावजूद तीन वर्ष बाद भी सरकारी मुलाजीमो द्वारा जमीन उपलब्ध नही कराने के कारण मजबूरन अपने जमीन होकर आवगमन बन्द करना पड़ा है।

विज्ञापन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed