• Thu. Dec 8th, 2022

सीतामढ़ी के समरूल हसन ने बीपीएससी में लहराया परचम, बने युवाओं के प्रेरणास्रोत

ByFocus News Ab Tak

Aug 4, 2022

मो कमर अख्तर की रिपोर्ट

सीतामढ़ी- बीपीएससी की परीक्षा में मेहसौल के एक युवक ने फिर से सफलता अर्जित की है। मेहसौल के युवक अब उच्च शिक्षा ग्रहण कर लोक सेवा एवं अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में परचम लहरा रहे है। मेहसौल वार्ड 13 निवासी स्व बदरूल हसन बद्र के छोटे पुत्र मो समरुल हसन ने बीपीएससी में सफलता प्राप्त कर मेहसौल को फिर से गौरवान्वित किया है। स्व बदरूल हसन बद्र को पढाई से विशेष लगाव रहा है। वह शिक्षक थे। वहीं जिला के नामचीन शायरों में उनकी गिनती होती थी। उनकी गजल संग्रह की पुस्तक भी प्रकाशित हो चुकी है। शिक्षा के लगाव का ही असर था कि उन्होंने अपने पुत्र एवं पुत्री को उच्च शिक्षा दी। बड़े पुत्र मो सहरूल हसन सहर इनकम टैक्स आफिसर, मो फखरूल हसन फख्र सहायक शिक्षक के पद पर तैनात है। वही मो जफरूल हसन जफर बी-टेक कर नौकरी कर रहे है। सदरुल हसन सद्र , नजरूल हसन नजर भी सर्विस की तैयारी कर रहे है। पुत्री दरखशां आरजू भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही है।

समरुल हसन की शिक्षा सीतामढ़ी से ही हुई। हसन ने 10वीं मथुरा, इंटर गोयनका काॅलेज एवं ग्रेजुएशन सुरसंड काॅलेज से की। ग्रेजुएशन के पश्चात पटना में फिर जामिया मिल्लिया इस्लामिया से सिविल सर्विस की तैयारी की। स्व बदरूल हसन बद्र के निधन के बाद उनके बड़े पुत्र मो सहरूल हसन ने जवाबदेही निभा अपने पिता के सपने को साकार किया।समरूल ने बताया कि अल्लाह का शुक्र है मुझे सफलता मिली। मेरी कामयाबी में मेरे मां और पिता का बड़ा योगदान है। हमेशा सिविल सर्विस के लिए प्रेरित करते रहे। उनकी निधन के बाद बड़े भाई सहरूल हसन ने उनकी कमी नही खलने दी। वहीं सभी भाईयों एवं बहन का साथ मिलता रहा। उन्होंने कहा कि मेरा लक्ष्य यूपीएससी करना है। सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे युवाओं से संदेश दिया कि सकारात्मक सोंच के साथ तैयारी करते रहें, सफलता निश्चित मिलेगी। समरूल की इस कामयाबी से परिवार सहित करीबी लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई। रिजल्ट आते ही लोगों ने घर पहुंच बधाई देने का तांता लगा है। वहीं दूरभाष पर लोग कामयाबी के लिए मुबारकबाद दे रहे है। मो नुरुल हसन आजाद, हसन साबित नजमी, मो ज्याउर रहमान, मदरसा रहमानिया के पूर्व अध्यक्ष मो अरमान अली, जदयू नेता मो जुनैद, पूर्व जिला पार्षद सह मदरसा रहमानिया के पूर्व सचिव मो अलाउद्दीन बिस्मिल, अफरोज आलम, मो नौशाद खान, सामाजिक कार्यकर्त्ता मो कमर अख्तर समेत अन्य ने कहा कि समरूल युवाओं के प्रेरणास्रोत बन गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed